टेलीविजन जिसे हम मनोरंजन का साधन भी कह सकते हैं, यह एक प्रकार का मनोरंजन ही है, स्पष्ट रूप से हम कह सकते हैं कि “टेलीविजन एक ऐसी दूरसंचार प्रणाली है जिसके द्वारा चलचित्र तथा ध्वनी को दो स्थानों के बीच प्रसारित या प्राप्त किया जाता है” 

क्या है टेलीविजन? Television से जुड़ी संपूर्ण जानकारी-

टेलीविजन शब्द यूनानी तथा लैटिन दो शब्दों से बना है जिसका अर्थ है दूर दृष्टि जहां पर टेली का अर्थ है दूर तथा विजन का अर्थ है दृष्टि। टेलीविजन मनोरंजन का एक अच्छा साधन है। इसे हिन्दी में दूरदर्शन भी कहते हैं। इसे दूरदर्शन इसीलिए कहा जाता है क्योंकि इसके द्वारा दूर की वस्तुओं के दर्शन होते हैं। ये एक ऐसा मनोरंजन का साधन है जो लोगों के बीच बहुत लोकप्रिय माना जाता है।

परिभाषा

“एक ऐसी दूरसंचार प्रणाली है जिसके द्वारा चलचित्र व ध्वनि को दो स्थानों के बीच प्रसारित व प्राप्त किया जा सके। यह शब्द दूरदर्शन सेट, दूरदर्शन कार्यक्रम तथा प्रसारण के लिये भी प्रयुक्त होता है।”

टेलीविजन का एक फायदा यह भी है कि वह दूर की जानकारी को हमें देता है। अपने आरंभिक दौर में भारत में टेलीविजन की गति धीमी थी और लगभग 30 सालों तक इस की गति धीमी ही रही थी, किंतु 1980 तथा 90 के दशक में टेलीविजन यानि कि दूरदर्शन ने राष्ट्रीय समाचार तथा प्रमोद द्वारा लोगों का लोकप्रिय होने में योगदान मिला, इसी के चलते 1990 के दशक में दूरदर्शन यानी कि टेलीविजन की गति में तेजी आने लगी। 

इसके परिणाम स्वरूप टेलीविजन भी रेडियो की भांति लोकप्रिय हो गया टेलीविजन ने भी रेडियो की भांति ही मनोरंजन कार्यक्रम प्रसारित करने शुरू कर दिए जिसमें फिल्में वृत्तचित्र तथा संगीत आदि शामिल थे, और टेलीविजन के धारावाहिक ने लोगों के बीच अपना एक अलग ही स्थान बना लिया जो लोगों में काफी लोकप्रिय था।

टेलीविजन का आविष्कार किसने और कब किया –

टेलीविजन / Television का आविष्कार सन 1944 में अमेरिका के वैज्ञानिक जॉन लोगी बेयर्ड किया था इसका आविष्कार ग्रेट ब्रिटेन में हुआ था। भारत में सर्वप्रथम दूरदर्शन का प्रसारण 15 सितंबर 1959 में हुआ था तथा दूरदर्शन का केंद्र दिल्ली में खोला गया था। उपग्रह में इसका तकनीकी प्रारंभिक उपयोग 1974 से 1976 में हुआ।

क्या आपको पता है कि जॉनी द्वारा टेलीविजन का नाम क्या रखा गया था यदि नहीं पता तो आइए जानते हैं उन्होंने टेलीविजन का नाम The Televisor रखा था गाने टेलीविजन के जरिए सर्वप्रथम एक कठपुतली की छवि को प्रदर्शित किया जिसका नाम था स्टिकी बिल।

जॉनी के द्वारा टेलीविजन की खबर को अखबार में प्रसारित करने के लिए अखबार संपादक के पास जाना पड़ा था तब एक बड़ी ही हास्यप्रद घटना घटित हुई टेलीविजन को देखकर अखबार छापने वाला डर गया किंतु उसको जानने के बाद उसे बहुत खुशी हुई। 

1925 में बना हुआ टेलीविजन एक मैकेनिकल टेलीविजन था किंतु उसके पश्चात जब 1927 में टेलीविजन था तो वह इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन था और इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का आविष्कार फिलो टेलर फर्नवर्थ (Philo Taylor Farnsworth) ने किया था सबसे पहले इस इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का प्रसारण किया गया था 3 सितंबर 1928 में यह सारे सार्वजनिक प्रसारण था और जब टेलीविजन यानी कि इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन का प्रसारण किया गया था तब फिलो की आयु महज 21 वर्ष की थी।

फ्लोर द्वारा बनाया गया यह इलेक्ट्रॉनिक टेलीविजन ब्लैक एंड वाइट था इसके पश्चात रंगीन टेलीविजन का आविष्कार हुआ जो की जर्मन के वैज्ञानिक वेर्नर फ्लेच्सिग (Werner Flechsig) ने सन 1938 में Shadow Mask तकनीक के साथ किया गया था एक अंतरराष्ट्रीय प्रदर्शनी के अवसर पर इस रंगीन टेलीविजन का प्रसारण और कमेंट किया गया है लगभग 1939 के समय पर किया गया था।

1939 तक किसी भी टेलीविजन को सार्वजनिक तौर पर नहीं बेचा गया था इसके बाद एक कंपनी द्वारा जिसका नाम DuMont Company था और इसके द्वारा वर्ष 1939 में TV बेचना शुरू किया गया. सन 1946 तक DuMont दुनिया का सबसे पहला, बड़ा टेलीविज़न नेटवर्क बन गया था.

पीटर गोल्डमार्क के निर्देशन के अंतर्गत सी बी ए साइंटिस्ट के द्वारा जॉन लोगी बेयर्ड के सिद्धांत को फॉलो करते हुए रंगीन टीवी बनाने शुरू किए गए थे इसके 1946 में पीटर गोल्डमार्क ने Federal Communications Commission रंगीन टेलीविजन दिखाए और परिणाम स्वरूप लगभग 1948 में करीब 100000 टेलीविजन अमेरिकी बाजार में बेचे गए थे।

समय के साथ साथ टेलीविजन की तकनीक में सुधार हुआ जैसे पिक्चर क्वालिटी में, साइज में बदलाव हुए और साउंड में भी बदलाव आए जिसके परिणाम स्वरूप आज बाजार में LED तथा LCD गुणवत्ता की टेलीविजन उपलब्ध हैं।

टेलीविजन के लाभ –

क्या आपको पता है कि टेलीविजन के लाभ क्या क्या है यदि नहीं तो कृपया लेख पढ़े तो आइए बात करते हैं की टेलीविजन किस प्रकार लाभकारी है टेलीविजन पर हम दूरदराज के खबरों को जल्दी ही प्राप्त कर लेते हैं इसके अतिरिक्त हमें तमाम जानकारी टेलीविजन के जरिए मिलती है और सबसे बड़ी बात कि टेलीविजन एक मनोरंजन का साधन है जो हमारा मनोरंजन करता है।

 टेलीविजन के द्वारा प्रसारित समाचार सीरियल तथा कई सामान्य ज्ञान से जुड़ी बातें भी हमारे सामने आती हैं इसमें बहुत से लोगों के बारे में बताया जाता है कुछ चैनल इसमें लाभकारी होते हैं जैसे कि दूरदर्शन जो हमें बॉलीवुड की खबरों तथा संगीत से जुड़ी खबरों को अवगत कराता है और यह एक बहुत बड़ी बात है कि हमें दूरदराज के दृश्यों को जिन्हें हम स्वयं जाकर में देख सकते टेलीविजन की सहायता से हम स्क्रीन पर देख सकते हैं।

पहले सर किसी भी सूचना को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचने में काफी वक्त लग जाता था किंतु के लिए जिनके आने के पश्चात लोगों को जल्दी कम समय में सूचना प्राप्त हो जाती है। 

सूक्ष्म रूप में जानते हैं कि टेलीविजन के लाभ क्या क्या है-

  • आप समय को व्यतीत कर सकते हैं मनोरंजन के जरिए या इसका प्रथम लाभ है।
  • आपको सामान्य ज्ञान से जुड़ी जानकारी के लिए जन के द्वारा भी प्राप्त होती है।
  • विश्व भर की जानकारी आपको प्राप्त होती है इसमें कहां पर क्या हो रहा है इसे आपको टेलीविजन द्वारा अवगत कराया जाता है।

Television / टेलीविजन और इसकी लोकप्रियता

किन्तु समय के साथ-साथ टेलीविजन की लोकप्रियता में कमी आ रही है और इसका कारण हम कह सकते हैं कि मोबाइल यह कंप्यूटर इत्यादि हैं क्योंकि अब लोगों को टेलीविजन से ज्यादा मोबाइल पसंद आते हैं कहीं ना कहीं मोबाइल एक ऐसी चीज है जो न केवल मनोरंजन करती है करता है बल्कि हमारे सवाल से जुड़ी सभी समस्याओं को हल करने में भी हमारी मदद करता है।

इसका एकमात्र कारण है इंटरनेट हम गूगल से कुछ भी पूछें तो हमें सटीक जानकारी उपलब्ध कराता है और यही वजह है कि टेलीविजन बस एक मनोरंजन का साधन मात्र बनकर रह गया है परंतु आज भी जो लोग बड़ी स्क्रीन पर दृश्य को या समाचारों आदि को देखना पसंद करते हैं वह टेलीविजन का प्रयोग करते हैं जैसे-जैसे समय और देश बीज होते जा रहे हैं वैसे वैसे टेलीविजन की लोकप्रियता में गिरावट आती जा रही है।

टेलीविजन के हानियां या यह किस प्रकार अच्छा नहीं है आइए जानते हैं –

टेलीविजन के लाभ तो आपने पहले हैं पर आपको पता है कि से हानियां भी होते हैं आइए जानते हैं तेल से होने वाली हानियों के बारे में।

टेलीविजन एक मनोरंजन का साधन है या तो आप जानते हैं किंतु अधिक टेलीविजन देखने पर इसकी लत लग जाती है जो कि बुरा है।

इसके कारण लोग परिवार से कम बातें करते हैं और टेलीविजन को अपने परिवार से ज्यादा महत्व देते हैं और इसको अधिक देखने से यह स्वास्थ्य के लिए भी हानिकारक है क्योंकि इससे आंखें खराब होने का खतरा बना रहता है।

आइए यहां पर हम संक्षिप्त रूप में टेलीविजन के हानियां पर दृष्टि डालें-

  • टेलीविजन से हमारे समय की बर्बादी होती है।
  • टेलीविजन होने के कारण हम अपने परिवार को कम समय दे पाते हैं तथा उसे देखने में अधिक रूचि रखते हैं।
  • टेलीविजन को अधिक दिखने से आगे खराब हो जाती हैं जो कि स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं है।
  • टेलीविजन पर कुछ ऐसी चीजें भी दिखाई जाती हैं जिससे कि बच्चे बिगड़ सकते हैं।
  • एक हिसाब से बच्चों के लिए टेलीविजन ज्यादा रूप से देखना सही नहीं है क्योंकि इसके द्वारा हो इसमें दिखाई जाने वाली कुछ खतरनाक घटनाओं या फिर कुछ बुरे कार्यों को करना सीखते हैं।

हमारी ओर से कुछ विचार टेलीविजन के लिए.

सरल शब्दों में यह कहा जा सकता है कि टेलीविजन केवल उन लोगों के लिए सही है जो अपना कार्य करके थोड़ा समय अपने मनोरंजन के लिए को देखें यह उनके लिए बिल्कुल सही नहीं है जो टेलीविजन को अपनी आदत बना लें।

Avatar of Jeet

हमारी लिखी हुई पोस्ट को देखने के लिए आपका धन्यवाद।

Join the Conversation

1 Comment

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *